में तैनात लेख " हिन्दुत्व " श्रेणी

  • राष्ट्र का भाव- पार्ट टू

    राष्ट्र का भाव- पार्ट टू

    हिन्दू महासभा, राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ, जनसंघ आदि की दृष्टि में समान धर्म समान भाषा, समान संस्कृति, समान जाति एवं समान इतिहास वाले लोग एकराष्ट्रिय कहे जा सकते हैं। ऐसे राष्ट्रिय लोगों का देश ही ‘एकराष्ट्र’ और ‘हिन्दू राष्ट्र’ है।


  • मज़हब के मसले

    मज़हब के मसले

    यदि हिन्दू मुसलमानों के दिलों में ग़ुबार भरा हुआ है, तो वे खुलकर अच्छी तरह लड़ लें और अपने मन की निकाल लें किंतु इस ढंग से लुक-छिपकर नहीं, अंधेरे उजाले में छापा मारकर नहीं, निहत्थों पर धावा बोलकर नहीं, पूजास्थलों को भ्रष्ट करके नहीं, लुटेरों की भाँति दुकानें लूटकर नहीं …


  • राष्ट्रीयता की कसौटी

    राष्ट्रीयता की कसौटी

    सावरकर की अवधारणाओं पर कम्युनिस्ट बनाम दक्षिणपंथी बहस तो खूब देखी है लेकिन एक धर्मगुरु के नज़रिये से कभी देखा-पढ़ा नहीं। बनारस में एक स्वामी जी मुझे अपने आश्रम ले गए और विचार पीयूष नाम की मोटी सी किताब दी …