• बामुलाहिज़ा होशियार…2017 में स्वर्ण युग आ रहा है….

    बामुलाहिज़ा होशियार…2017 में स्वर्ण युग आ रहा है….

    नोबेल कमेटी को भी 2 जनवरी की रैली में आना चाहिए। उन्हें स्वीकार करना चाहिए कि राजनेता से बड़ा अर्थशास्त्री कोई नहीं होता। किसी अर्थशास्त्री ने तारीफ़ नहीं की तो क्या हुआ। बैंकरों ने तो की ही है। अर्थशास्त्री भी उन्हीं बैंकरों के यहां नौकरी करते हैं। इस बड़े फैसले का एहतराम हो। इस पर वाजिब इनाम हो। भारत के मसीहाई राजनेता को अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार मिलना चाहिए। मैं हैरान हूं कि समर्थक अभी तक ये साहस क्यों नहीं कर सके हैं। अर्थशास्त्र का नोबल पुरस्कार भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया जाना चाहिए।