• कलि कथा वाया चाय-पास

    कलि कथा वाया चाय-पास

    चाय भारत का ‘ राष्ट्रीय रास्ता पेय’ ( नेशनल स्ट्रीट ड्रिंक ) है । किसी नुक्कड़ पर चाय की दुकान न मिले तो लगता है कि यहाँ आबादी ही नहीं है । और हाँ दाम के मामले में कोलकाता काफी सस्ता है । चार से पाँच रुपये में दूध चाय मिल जाती है । तीन रुपये में लीकर चाय । दिल्ली में आपको दूध चाय के आठ से दस रुपये देने पड़ते हैं ।


  • हे पाकिस्तान के परवरदिग़ार !

    हे पाकिस्तान के परवरदिग़ार !

    उम्मीद की जानी चाहिए कि पाकिस्तान की घटना सकारात्मक नतीजे लाएगी। इस नतीजे में सबसे बड़ा नतीजा होगा कि इस पार या उस पार हम सब धर्म के नाम पर ऐसे हिंसक संगठनों को भावुकता या आस्था के पैमाने से देखना बंद कर देंगे। हम समझने लगेंगे कि तालिबान हो या आतंकवाद या सांप्रदायिकता ये सब ऐसे स्कूलों की तलाश में हैं जहां हमारे बच्चों को मार सकें या फिर उन्हें अपने जैसा वहशी बना सकें।


  • घर भर छठ

    घर भर छठ

    राजनीति और सरकार की समझ पर उस खाते पीते मध्यम वर्ग ने अवैध कब्ज़ा कर लिया है जो ट्वीटर और फेसबुक पर खुद ही अपनी तस्वीर खींच कर डालता हुआ अघाए रहता है। जो अपनी सुविधा का इंतज़ाम ख़ुद कर लेता है।



  • हार्न प्रिय बिहार

    हार्न प्रिय बिहार

    मैंने यहाँ बजने वाले हार्न की कुछ श्रेणियाँ बनाई हैं । लहरिया हार्न,बाँसुरी हार्न,हारमोनिया हार्न,बमकल( क्रोधित) हार्न,आनंदित हार्न,ऐ सखी सुनो न हार्न,केंकीयाइल हार्न(केंकियाना श्वान की चीख का एक प्रकार है ), चल गुड्डू सिनेमा हार्न,फुंफकार हार्न,विधायक हार्न,थानेदार हार्न,गुंडा हार्न । इसी में एक कैटगरी है देखावन और सुनावन हार्न की।