मरीना ओ मरीना

image
मरीना का यह चलता-फिरता मदाम तुसाद है। काठ के कट-आउट पर रजनीकांत भी हैं और आमिर भी। प्रियंका भी है। मुंबई का जुहू बीच देखा है। वहाँ फ़िल्म कलाकारों को लेकर ऐसी दीवानगी नहीं दिखी। आइये इनके बदल में खड़े हो जाइये। सेल्फी से लेकर फ्रंटी तक खिंचवा लीजिए। फ्रंटी मतलब कोई सामने से फोटो खींचे तो उसे फ्रंटी कहते हैं। तस्वीरें देखिये और लोक-परलोक के डिस्को और डिस्कोर्स में रम जाइये।
image

image

image

मरीना का किनारा गंदा है पर समंदर की लहरें मौज करना जानती हैं। मुंबई से अलग मरीना की लहरें अटखेलियाँ करती आती हैं। लोग नहाने के लिए ऐसे उतावले थे जैसे पानी की सप्लाई बंद होने वाली हो। बहुत कम थे जो समंदर को निहार रहे थे। मैं जब गया था तब शायद वरदा तूफान क़हर बरपा गया था। गंदगी इसलिए भी हो सकती है।
image

अंग्रेज़ी न जानने का तनाव सार्वभौमिक और अखिल भारतीय है। पर यहाँ हिन्दी से लेकर तमिल जानने का उपाय बताने वाली किताबें भी बिक रही थीं। मनोहर पोथी टाइप की किताब का भारत की किताब घोषित कर देनी चाहिए।
image