अमिताभ पेड़ तो अमर छाया

यह कहानी है अमिताभ के भवदीय, शुभाकांक्षी, आर एस वी पी अमर सिंह की । जवाब नहीं । अमर अमिताभ की दोस्ती पर मनमोहन देसाई से फिल्म नहीं बन सकती । क्योंकि उनकी कहानी में किसी न किसी मोड़ पर दोस्त एक दूसरे से अलग होते हैं । ग़लतफहमियां पैदा होती हैं। वो दुश्मन बनते हैं और फिल्म के आखिरी दस मिनट में वापस दोस्त । लेकिन अमित अमर की दोस्ती में कोई एक दूसरे से जुदा नहीं हो पाता है । चिपके रहते हैं । इसलिए मनमोहन सिंह से अमिताभ पेड़ तो अमर छाया नाम की कहानी पर फिल्म नहीं बनेगी । नए निर्देशक चाहिए । ऐसा निर्देशक जिसका दोस्त उसे कभी छोड़ता ही न हो । हर समय साये की तरह रहता हो । ऐसे दोस्तों की तलाश में दिलजलों अमर अंकल से सीखो । आगे से किसी को दोस्त बनाना तो एक मिनट के लिए भी मत छोड़ना । सॉरी यहां दोस्ती के साथ एक रिश्तेदारी भी है । अमिताभ अमर अंकल के बड़े भाई हैं । कम से कम एक टूट भी जाए तो दूसरा डोर तो रहेगा । फिर छोटा भाई अपने बड़े भाई को गिफ्ट देता है । बड़ा भाई ले लेता है । आखिर क्यों न लें । सगा छोटा भाई है । क्या उसने आज तक कोई गिफ्ट दिया जो टीवी चैनलों में लाइव दिखाया गया हो । अमर अंकल ने दिया है ।

दोस्ती के इस सिंड्रम को किसी मनोचिकित्सक से समझ कर कोई चैनल आधा घंटा कर सकता है । चैनलों की भाषा में आधा घंटा जीवन के सार तत्व को पेश करने वाला समय बोध है । इसमें अमर अमिताभ की दोस्ती का विश्लेषण होना चाहिए । सुपरस्टार के बेटे की शादी और कार्ड पर भवदीय में छपे छोटे भाई अमर सिंह । अमिताभ ने भी क्या सम्मान दिया है । बड़े भाइयों को सीखना चाहिए ।

अमर सिंह कभी थकते भी नहीं । शिंकारा के बोतल की तरह तरोताज़ा ही नज़र आते हैं । दिन में मिर्जापुर, दोपहर में तिरुपति और शाम को मुंबई । चुनाव में झूठे वादे, भगवान से सच्ची प्रार्थना और दोस्त का साथ । कहते हैं अमर सिंह उद्योगपति भी हैं । राम जाने उनके उद्योग को कौन संभाल रहा है । अभिषेक ऐश की शादी के तमाम फोटोग्राफरों, कैमरामैनों तुम एक तस्वीर ऐसी खींच कर दिखा दो जिसमें अमर अमिताभ साथ न हों । दोनों दुल्हा दुल्हन की तरह साथ साथ नज़र आते हैं । भगवान इनकी दोस्ती पर ज़माने की नज़र न लगने देना । मुलायम सिंह को यह न लगने देना कि यूपी में डूबती नैया को छोड़ उनका दोस्त मुंबई में इन दिनों क्यों रहता है ? कहीं वो हर शाम वियोग में डूब जाएं और सोचने लगें कि अमर तो पहले मेरे दोस्त थे । मैं भी तो उम्र में उनके बड़े भाई के समान हूं । लेकिन अमर मेरे साथ तो इतना नहीं रहता । हर फ्रेम में । हर वक्त । ऐसा बिल्कुल मत होने देना भगवान । क्योंकि सुबह होते ही अमर अंकल मुलायम अंकल के पास आ जाते हैं न । प्रचार के लिए । मगर सोचिये तो..इससे तो पार्टी का प्रचार हो रहा है न । अमिताभ के साथ शादी के फोटो से उनका प्रचार हो रहा है या पार्टी का । एक और दोस्त है…जो अक्सर दोनों के फ्रेम में बिन बुलाये मेहमान की तरह नज़र आता है । अनिल भैया का । एक फिल्म बन ही जाए । अमर अनिल और अमिताभ । इतने ए में बेचारे एम वाले मुलायम….नहीं भगवान…इनकी दोस्ती पर किसी की नज़र न लगें । नहीं ।